PHOTO:PTI

BYTHE FIRE TEAM

शिकागो में विश्व हिंदू कांग्रेस अपना एक सम्मेलन कर रहा था तभी वहां कुछ प्रदर्शनकारी आ गए और उन्होंने कुछ देर के लिए रुकावट पैदा की।

पीटीआई की खबर के अनुसार प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने शिकागो में विश्व हिंदू कांग्रेस की कार्यवाही को थोड़ी देर के लिए बाधित किया। प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी करते हुए सम्मेलन में भाग ले रहे धार्मिक नेताओं से भारत के अल्पसंख्यकों के खिलाफ कथित कदमों का विरोध करने की मांग की।

इन प्रदर्शनकारियों में शुक्रवार शाम को कुछ महिलाएं भी शामिल थीं। इनमें से दो महिलाओं को गिरफ्तार कर उन पर उत्पाती आचरण करने का आरोप लगाया गया है।

मीडिया खबर के अनुसार यह महिलाएं शिकागो साउथ एशियंस फॉर जस्टिस की तरफ से यहां पर विरोध जताने आई थी।

world hindu congress/photo/pti के लिए इमेज परिणाम
PHOTO:PTI

इन महिलाओं ने मीडिया को बताया कि उन्होंने इसमें भाग लेने वाले नेताओं से धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ सरकार की हालिया कार्रवाई का विरोध करने का अनुरोध करने के वास्ते विश्व हिंदू सम्मेलन के दौरान प्रदर्शन किया।

आपको बताते चलें कि कार्यक्रम के आयोजकों ने आरोप लगाया कि यह प्रदर्शनकारी नकली पहचान पत्र के जरिए आयोजन स्थल में घुसे। पुलिस को मामले की सूचना दी गई और वह इसकी जांच कर रही है।

आपको बताते चलें कि विश्व हिंदू सम्मेलन में भारत से आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और संगठन के संयुक्त महासचिव दत्तात्रेय होसबले तथा अन्य शीर्ष हिंदू धार्मिक नेता भाग लेने के लिए गए हुए हैं।

इस सम्मेलन में कुछ प्रदर्शनकारियों ने विरोध जताने के लिए बैनर दिखाने का काफी प्रयास किया परंतु उन्हें एक मिनट से भी कम समय में सभागार से बाहर निकाल दिया गया। नेताओं की सुरक्षा को लेकर होटल के बाहर सुरक्षा चाक चौबंद कर दी गई है।

आपको बताते चलें कि भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का रविवार को विश्व हिंदू कांग्रेस को संबोधित करने का कार्यक्रम भी है।

इस सम्मेलन में मोहन भागवत हिंदू एकता पर बल देते हुए अपने एक भाषण में कहा कि हिंदू विरोध करने को नहीं जीते लेकिन खुद की रक्षा करना सीखना होगा।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने महाभारत का उदाहरण देते हुए कहा कि किसी चीज की कमी और अधिकता से बचना चाहिए अपने आप को अहंकार से दूर रखना चाहिए।

photo:indian express

मोहन भागवत ने हिंदुओं की एकता पर बोलते हुए कहा कि,” यह दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि कई क्षेत्रों में हिंदू समाज के मेधावी लोगों की संख्या होते हुए भी हिंदुओं को मजबूत करना हमेशा मुश्किल रहा है। शुरुआत से ही हिंदुओं को एक साथ मिलाकर रखना कठिन काम था। जब हमारे स्वयंसेवक लोगों को संगठित करने की कोशिश करेंगे तो वह कहेंगे कि ‘शेर कभी भी समूह में नहीं चलता’ लेकिन वह शेर हो या रॉयल बंगाल टाइगर जब वह अकेले चल रहा है तो जंगली कुत्ते एक साथ आक्रमण कर उसे नष्ट कर सकते हैं।”

उन्होंने कहा,”दुनिया के हिंदुओं ने अपने मतभेदों के बावजूद अलग-अलग क्षेत्रों में सफलता हासिल करने के लिए ही नहीं बल्कि हिंदू समाज को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों से बचाने के लिए एक साथ काम करना शुरू कर दिया। हिंदू विरोध करने को नहीं जीते, पर खुद की रक्षा करना सीखना होगा।”

भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के साथ-साथ धर्मगुरु दलाई लामा भी इस सम्मेलन में शामिल होंगे। इसके साथ ही कार्यक्रम में नीति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया भी हिस्सा ले रहे हैं।

आपको बताते चलें कि बॉलीवुड में अपनी कला से लोगों का मनोरंजन कराने वाले अभिनेता अनुपम खेर भी इस सम्मेलन में भाग ले रहे हैं।

source-PTI

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here