IMAGE/REPORT

BY-THE FIRE TEAM

इराक़ में महिलाओं की जिंदगी किसी नर्क से कम नहीं है. क्योंकि आए दिन महिलाओं पर अत्याचार की खबरें आती हैं. 2015 में शायमा कासिम Miss Iraq बनीं थीं. जिसके बाद से ही उनको जान से मारने की धमकियां मिलने लगी थीं.

उनकी लाइफस्टाइल को देखते हुए कई आतंकवादी संगठन ने उनको जान से मारने की धमकी दी. लेकिन शायमा ने इग्नोर किया. अब ISIS ने 22 वर्षीय मॉडल तारा फेयर्स को मारकर शायमा को मारने की धमकी दी है.

ISIS ने कहा है- अब तुम्हारी बारी है. जिसके बाद शायमा सहम गई और उन्होंने देश छोड़ दिया है. वो अब जॉर्डन में रह रही हैं.

शायमा ने कहा-  मेरा इराक में रहना मुश्किल हो गया है. यहां रहना खतरे से खाली नहीं था. इसलिए मैंने देश छोड़ दिया है और जॉर्डन में लाइफ सैटल करने का फैसला लिया है. 

आपको बता दें कि 27 सितंबर को बगदाद में सोशल मीडिया स्टार की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. जिसके बाद शायमा को मारने की धमकी दी थी. आतंकवादियों ने 3 महिलाओं को मौत के घाट उतारा क्योंकि वो मॉडल थीं, इसलिए उन्होंने मार दिया.

ISIS भी शायमा को इसलिए मारना चाहता है. शायमा ने कहा- ‘पिछले कई दिनों से मैं बगदाद में रह रही थी. जहां मैं घर जाने से भी डर रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे कोई मेरे घर में आकर मार डालेगा.’

ध्यातव्य है कि 1972 के बाद हाल ही में इराक में पहली बार हुए ब्यूटी काम्पीशन में शायमा ने ये खिताब जीता है. इस प्रतियोगिता में करीब 150 इराकी लड़कियों ने हिस्सा लिया था.

किन्तु कट्टरपंथियों के डर से 15 प्रतियोगियों ने अपने नाम वापस ले लिए थे. रिपोर्ट के मुताबिक जिस होटल में यह ब्यूटी कॉन्टेस्ट चल रहा था तब बाहर क्लाश्निकोव लिए कई बंदूक के साथ गार्ड तैनात थे. अभी वर्तमान में इराक के एक-तिहाई हिस्से पर आईएस का कब्जा है.

आई एस आई एस के विषय में :

इस्लामी राज्य  जून २०१४ में निर्मित एक अमान्य राज्य तथा इराक एवं सीरिया में सक्रिय जिहादी सुन्नी सैन्य समूह है. अरबी भाषा में इस संगठन का नाम है ‘अल दौलतुल इस्लामिया फिल इराक वल शाम‘ इसका हिन्दी अर्थ है- ‘इराक एवं शाम का इस्लामी राज्य’. शाम सीरिया का प्राचीन नाम है.

इस संगठन के कई पूर्व नाम हैं जैसे आईएसआईएस अर्थात् ‘इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया’, आईएसआईएल्, दाइश आदि.

आईएसआईएस नाम से इस संगठन का गठन अप्रैल 2013 में हुआ. इब्राहिम अव्वद अल-बद्री उर्फ अबु बक्र अल-बगदादी इसका मुखिया है.शुरू में अल कायदा ने इसका हर तरह से समर्थन किया किन्तु बाद में अल कायदा इस संगठन से अलग हो गया.

अब यह अल कायदा से भी अधिक मजबूत और क्रूर संगठन के तौर पर जाना जाता हैं.

यह दुनिया का सबसे अमीर आतंकी संगठन है जिसका बजट 2 अरब डॉलर का है. २९ जून २०१४ को इसने अपने मुखिया को विश्व के सभी मुसलमानों का खलीफा घोषित किया है.

विश्व के अधिकांश मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्रों को सीधे अपने राजनीतिक नियंत्रण में लेना इसका घोषित लक्ष्य है. इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिये इसने सबसे पहले लेवेन्त क्षेत्र को अपने अधिकार में लेने का अभियान चलाया है,

जिसके अन्तर्गत जॉर्डन, इजरायल, फिलिस्तीन, लेबनान, कुवैत, साइप्रस तथा दक्षिणी तुर्की का कुछ भाग आता हैं. आईएसआईएस के सदस्यो की संख्या करीब 10,000 है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here