BYTHE FIRE TEAM


डोवाल ने अस्थाना के घर छापा मारने से रोका


सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा ने एक याचिका दायर की। इस याचिका में उन्होंने मोदी सरकार में कोयला एवं खदान राज्य मंत्री हरिभाई पार्थीभाई पटेल पर मोईन कुरैशी मामले में करोड़ों रुपए की रिश्वत लेने का आरोप लगाया।

छुट्टी पर भेजे गए सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के मामले की सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई में एक नया मोड़ आ गया है। सोमवार को सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए एक याचिका दायर की।

इस याचिका में उन्होंने मोदी सरकार में कोयला एवं खदान राज्य मंत्री हरिभाई पार्थीभाई पटेल पर मोईन कुरैशी मामले में करोड़ों रुपए की रिश्वत लेने का आरोप लगाया। सिन्हा की याचिका के मुताबिक, गुजरात से सांसद हरिभाई पार्थीभाई को अहमदाबाद के किसी विपुल नाम के शख्स द्वारा पैसे दिए गए थे।

वेबसाइट ‘द वायर’ ने इस याचिका में लगाए आरोपों को लेकर हरिभाई पार्थीभाई को कुछ सवाल भेजे थे, जिसका उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

इसके अलावा मनीष कुमार सिन्हा ने अपनी याचिका में यह भी बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के कथित तौर पर मोईन कुरैशी मामले में गिरफ्तार भाईयों मनोज प्रसाद और सोमेश प्रसाद से नजदीकी संबंध हैं।

सिन्हा ने अपनी याचिका में यह भी कहा है कि रिश्वत के लेन-देन में शामिल उद्योगपति सना सतीश बाबू की मुलाकात सीवीसी केवी चौधरी से भी हुई थी और उस मुलाकात में मोईन कुरैशी मामले की चर्चा की गई थी।

इसके बाद सीवीसी ने राकेश अस्थाना को बुलाकर इसके बारे में पूछा था। ‘द वायर’ ने केवी चौधरी से जब इस मामले के बारे में पूछा तो उनका कहना था कि मामला सुप्रीम कोर्ट में है और इसे लेकर मीडिया से बात करना सही नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here