BYसुशील भीमटा


चम्बा, भरमौर, पांगी और दूर-दराज के लोगों को मिलेगा सीधा लाभ


जिला चंबा के किडनी मरीजों को इलाज के लिए शिमला या कहीं और नहीं जाना पड़ेगा. अब केंन्द्र सरकार द्वारा चम्बा मेडिकल कालेज में ही ये सुविधा उपलब्ध करवाई जायेगी। जल्द ही मरीज चंबा मेडिकल कॉलेज के डायलिसिस सेंटर में ही अपना इलाज करवा सकेंगे.

डायलिसिस सेंटर में प्रभारी समेत तकनीशियन स्टाफ की तैनाती हो चुकी है. बताया जा रहा है कि कुछ दिनों में डायलिसिस सेंटर को चालू कर दिया जाएगा. केंद्र सरकार की ओर से चंबा मेडिकल कॉलेज को डायलिसिस सेंटर दिया गया था.

मोदी सरकार किस तरह से दूर के इलाकों का भी ध्यान रखती है ये आपके सामने है सेंटर को स्थापित करने में प्रबंधन को आठ महीने का समय लग चुका है.

अब डायलिसिस सेंटर किडनी रोगियों के लिए तैयार हो चुका है. अस्पताल प्रबंधन इसके उद्घाटन को लेकर योजना बना रहा है.

बता दें कि सेंटर में किडनी रोगी से प्रति डायलिसिस 1098 रुपये लिए जाएंगे. अस्पताल में डायलिसिस सेंटर के साथ डिजिटल एक्सरे भी शुरू किया जा रहा है। इसको लेकर भी सभी औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं.

डिजिटल एक्सरे मशीन को संचालित करने के साथ-साथ अलग से बिजली मीटर भी लगाया जा चुका है. इमरजेंसी में आने वाले मरीजों को एक्सरे के लिए भटकना नहीं पड़ेगा.

डिजिटल एक्सरे और डायलिसिस सेंटर शुरू होने से जिले की छह लाख आबादी को लाभ मिलेगा. जिले में कई लोग किडनी रोग से ग्रसित हैं, जोकि डायलिसिस के लिए जिले से बाहर जाते हैं और डायलिसिस करवाने में काफी खर्चा उठाने को मजबूर थे. ऐसे में चंबा में डायलिसिस सेवा शुरू होने से इन लोगों को कम खर्च पर डायलिसिस सुविधा उपलब्ध हो जाएगी.

चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विनोद शर्मा ने बताया कि डायलिसिस सेंटर में स्टाफ की नियुक्ति हो चुकी है. डिजिटल एक्सरे भी शुरू हो चुका है. दोनों सेवाओं का उद्घाटन करने को लेकर योजना बनाई जा रही है. जल्द ही मरीजों को इनका लाभ मिलेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here