BYTHE FIRE TEAM

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर सभी मोर्चों पर विफल रहने का आरोप लगाया और कहा कि अब देश में वैकल्पिक विमर्श पर गौर करने और अपनाने की जरूरत है।

सिंह ने कहा कि इस सरकार में किसान और नौजवान परेशान हैं तो दलितों एवं अल्पसंख्यको में असुरक्षा का माहौल है।

मॉब लॉन्चिंग के नाम पर निर्दोष लोगों की हत्याएं हो रही हैं। वर्त्तमान सरकार ने जनता पचास दिन का समय माँगा था। किन्तु न तो लोगों को अच्छे दिन ही देखने को मिल रहे हैं और न ही महंगाई कम होने का नाम ले रही है।ऊपर से भ्रस्टाचार कई गुना बढ़ चूका है।

मनमोहन सिंहकांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल की पुस्तक ‘शेड्स ऑफ ट्रुथ’ के विमोचन के मौके पर बोल रहे थे।उन्होंने पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के साथ इस पुस्तक का विमोचन किया।

सिंह ने पुस्तक की सराहना करते हुए कहा, ‘ यह पुस्तक बहुत अच्छी तरह शोध करने के बाद लिखी गयी है। यह पुस्तक मोदी सरकार का समग्र विश्लेषण है। यह सरकार की नाकामियां बताती है। यह बताती है कि इस सरकार ने जो वादे किए, पूरे नहीं किये।’

उन्होंने कहा, ‘देश में कृषि संकट है। किसान परेशान हैं और आंदोलन कर रहे हैं। युवा दो करोड़ रुपये नौकरियों का इंतजार कर रहे हैं। ‘ उन्होंने आरोप लगाया कि औद्योगिक उत्पादन और प्रगति थम गई है।

सिंह ने कहा, ‘नोटबंदी और गलत ढंग से लागू की गई जीएसटी की वजह से कारोबार पर असर पड़ा। विदेशों में कथित तौर पर जमा  धन को लाने के लिए कुछ नहीं किया गया। दलित और अल्पसंख्यक डरे हुए हैं।’

उन्होंने सरकार पर विदेश नीति के मोर्चे पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए कहा कि पड़ोसियों के साथ हमारे संबन्ध खराब हुए हैं।
पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, ‘शैक्षणिक आजादी पर अंकुश लगाया जा रहा है। विश्वविद्यालयों के माहौल को खराब किया जा रहा है।’

वर्त्तमान सरकार में लोग कितने पीड़ित हैं इसका अंदाजा सहजता से लगाया जा सकता है उन्होंने कहा कि देश को वैकल्पिक विमर्श पर गौर करने और अपनाने की जरूरत है।

(साभार -पीटीआई भाषा)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here