IMAGE_PTI

BY-THE FIRE TEAM


आज देश में सबसे चर्चा का विषय बना हुआ है- राममंदिर का निर्माण. इसको  लेकर जनप्रतिनिधियों के अतिरिक्त जिम्मेदार भरे पदों पर बैठने वाले मंत्री भी गलत बयानबाजियां कर रहे है- जैसे

उद्धव ठाकरे ने कहा- ‘हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर फिर सरकार’ के नारे के साथ अयोध्या कूच करेंगे, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव मौर्या ने कहा- अयोध्या में बाबर का कोई नाम नहीं रहेगा,

सुब्रहमण्यम स्वामी का कहना है कि राम मंदिर बनने से कोई ताकत रोक नहीं सकती इत्यादि। यह जानते हुए भी कि राममंदिर का मामला सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन है।

वहीं अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अपने बयानों को लेकर चर्चा में बने रहने वाले शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैयद वसीम रिजवी ने राम जन्म भूमि पर एक फिल्म का निर्माण किया है।

यह फिल्म ‘राम जन्मभूमि अयोध्या में 1990 में हुए गोलीकांड के बाद उपजे हालातों पर आधारित है जिसका पोस्टर व ट्रेलर  सोमवार को लॉन्च किया गया। वसीम रिजवी द्वारा निर्मित यह फिल्म दिसंबर में सिनेमाघरों में रिलीज होगी।

आईएएनएस न्यूज़ के हवाले से पता चला है कि राजधानी के एक होटल में फिल्म के पोस्टर व ट्रेलर लॉन्च किये जायेंगे. इस  अवसर पर वसीम रिजवी ने कहा कि इस फिल्म में किसी समुदाय या फिर धार्मिक भावनाओं को आहत नहीं किया गया है।

समाज में फैली बुराइयों को फिल्म के माध्यम से सामने लाने की कोशिश की गई है। नफरत का माहौल खत्म हो यही फिल्म का उद्देश्य है।

उन्होंने बताया कि खास बात यह है कि वसीम रिजवी ने खुद फिल्म की कहानी लिखी और निमार्ता भी वही (वसीम रिजवी) हैं। साथ ही फिल्म के अधिकतम हिस्सों का फिल्मांकन भी अयोध्या में किया गया है।

उन्होंने बताया कि 30 अक्टूबर व 2  नवंबर 1990 में कारसेवकों पर हुए गोलीकांड के बाद जो अयोध्या में हुआ उस पर यह फिल्म आधारित है।

फिल्म में एक सदानंद शास्त्री हैं जो रिटायरमेंट के बाद राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के संबंध में सक्रिय हैं। फिल्म में विलेन मौलाना जफर खान पाकिस्तानी एजेंट है, जो विदेशी चंदे पर साजिश करता है।

उसे मस्जिद के नाम पर मुसलमानों को भड़काते हुए दिखाया गया है। वह हिन्दू और मुसलमानों में फसाद पैदा करने की कोशिश करता है।

अंत में मुसलमान उसकी हकीकत जान लेते हैं और वह देश छोड़ पाकिस्तान भागने पर मजबूर हो जाता है। इस फिल्म में वसीम रिजवी भी किरदार निभाते हुए नजर आएंगे।

उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि का जो मामला न्यायालय में विचाराधीन है उससे जुड़े किसी भी पहलू को इस फिल्म में नहीं दिखाया गया है।

वसीम ने कहा कि फिल्म के रिलीज होने के समय वे सभी राज्यों में इसे टैक्स फ्री करने के लिए आवेदन करेंगे। रिजवी ने दोहराया कि हम अयोध्या की विवादित भूमि पर मस्जिद का होना नहीं मानते।

उन्होंने कहा कि वहां मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनाई गई। अयोध्या में राम का जन्म हुआ, दुनिया इसे जानती है। उन्होंने कहा, “मैंने समझौते की कई बार कोशिश की। मैं कामयाब भले न हुआ हूं, लेकिन नाउम्मीद नहीं हुआ हूं।”

रिजवी ने कहा कि किसी धर्म विशेष को ठेस पहुंचाना उनका मकसद नहीं है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here