PTI Photo

BYTHE FIRE TEAM

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने गणेश महोत्सव के दौरान डीजे और डोल्बी साउंड पर रोक के निर्णय को सही ठहराते हुए रविवार को कहा कि भगवान गणेश को ऐसे उच्च प्रौद्योगिकी वाले उपकरणों की जरूरत नहीं है।

डीजे और डोल्बी ध्वनि प्रणालियों पर सरकार के रोक से कुछ गणेश मंडलों में रोष उत्पन्न हुआ है लेकिन बम्बई उच्च न्यायालय ने इस सप्ताह के शुरू में इस रोक को बरकरार रखा था।

फडणवीस ने यहां मुख्यमंत्री आवास ‘वर्षा’ में स्थापित गणेश प्रतिमा के विसर्जन के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘भगवान गणेश को डीजे..डोल्बी की जरूरत नहीं है, यह हमारे उत्साह के लिए हमारी जरूरत बन गए हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘पारंपरिक संगीत यंत्र अधिक आनन्द दायक होते हैं। अधिक तेज आवाज से ध्वनि प्रदूषण होता है। मेरा मानना है कि धूम-धाम कम नहीं होना चाहिए लेकिन हमें पर्यावरण और परंपराओं के बारे में भी सोचना चाहिए।

बताते चलें कि गणेश उत्सव को लेकर पूरे मुंबई में संगीत का व्यापक स्तर पर प्रयोग किया जाता है इससे इस महानगरी में ध्वनि प्रदूषण काफी बढ़ जाता है।

मुंबई में लगभग 30000 लोग प्रति वर्ग किलोमीटर में रहते हैं, अधिक जनसंख्या घनत्व के कारण ध्वनि प्रदूषण यहाँ की प्रमुख समस्या बन गई है।

यह बात भाजपा शासित इस राज्य के मुख्यमंत्री फडणवीस भी बखूबी समझते हैं यही कारण है कि वह गणेश उत्सव में पारंपरिक संगीत को बढ़ावा देना चाहते हैं।

देवेंद्र फडणवीस का पूरा नाम देवेंद्र गंगाधर राव फडणवीस है जो कि महाराष्ट्र की राजनीति का वह नाम है जिसने अपने पिता से राजनीति विरासत मिलने के बावजूद अपनी अलग पहचान बनाई है। फडणवीस ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखते हैं और उनके पिता गंगाधर राव राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और जनसंघ में रहे हैं।

PTI-BHASHA

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here