PTI/IMAGE

BY-THE FIRE TEAM

ज्ञात सूत्रों से पता चला है कि समाजवादी पार्टी की पूर्व प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक के उपर हमला किया गया है. पंखुड़ी पाठक ने बताया कि यह हमला बजरंग दल के सदस्यों ने शनिवार को उन पर किया.

इस संदर्भ में पंखुड़ी ने ट्वीट किया कि बजरंग दल ने  पहले उन्होंने हमें भड़काने का प्रयास किया लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो उन्होंने हमला कर दिया. यह हमला पूर्व नियोजित था.

क्या उत्तर प्रदेश पुलिस, योगी आदित्यनाथ और पुलिस महानिदेशक में इन लोगों को गिरफ्तार करने की हिम्मत है.? बता दें कि बीते दिनों पंखुड़ी ने सपा के प्रवक्ता पद से अपना नाता तोड़ लिया है.

उन्होंने अतरौली से लौटकर संवाददाताओं से कहा कि उन पर और उनकी टीम के कम से कम तीन सदस्यों पर कथित रूप से हमला किया गया. हमला कथित बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने किया, जिसमें हम घायल हो गये.

हमला पुलिस की मौजूदगी में हुआ और उनकी कारों पर पथराव भी किया गया. पंखुडी ने कहा कि हमें दोबारा अतरौली ना आने की धमकी दी गयी है. हम इस मामले की सूचना अलीगढ पुलिस को नहीं दे रहे हैं क्योंकि हमें उस पर भरोसा नहीं रह गया. हम दिल्ली लौट रहे हैं और आगे की कार्रवाई वहीं तय करेंगे.

पंखुड़ी पाठक ने ट्विटर पर एक पोस्ट लिखा –  ”आज ‘हिंदुत्व’ को क़रीब से देखा .. जब अपनी राजनीति के लिए एक भगवाधारी भीड़ ने एक हिन्दू लड़की और कई हिन्दू लड़कों पर जानलेवा हमला किया. इनका हिंदुत्व इनकी राजनीति तक सीमित है. बाक़ी हर हिन्दू इनके लिए बस शिकार है जिसकी हत्या यह अपने राजनैतिक फ़ायदे के लिए कर सकते हैं.’

इस बीच, विश्व हिन्दू परिषद  (पश्चिमी उत्तर प्रदेश) के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने आरोपों को पूरी तरह झूठ और निराधार करार दिया है. यह आपको बता दें कि बजरंग दल विश्व हिन्दू परिषद का युवा प्रकोष्ठ है.

बजरंग दल से जुड़े प्रमुख तथ्य :
बजरंग दल, संघ परिवार और विश्व हिंदू परिषद की कड़ी का युवा चेहरा है. इसकी शुरुआत 1 अक्टूबर 1984 में सबसे पहले भारत के उत्तर प्रदेश प्रान्त से हुई जिसका बाद में पूरे भारत में विस्तार हुआ.
हिंदुत्व इस परिवार का मुख्य दर्शन है. बजरंग दल का दावा है कि अभी इसके 1,300,000 सदस्य हैं जिनमें 850,000 कार्यकर्ता शामिल हैं. यह भी संघ की तरह शाखा और अखाड़े चलाती है जिनकी सँख्या लगभग ढाई हजार के आस-पास है.
 बजरंग दल का सूत्रवाक्य है -“सेवा, सुरक्षा और संस्कृति”. इनके प्रमुख मनोज वर्मा है. हिंदू युवा शक्ति को समाज के प्रति संस्कारयुक्त सकारात्मक भूमिका की ओर प्रेरित करना भी बजरंग दल का मुख्य कार्य है.
अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को “राष्ट्रवादी संघठन” श्रेणी में रखा है एवं विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल को धार्मिक उग्रवादी संगठन बताया है.
हालाँकि इसका देश भर में तीव्र विरोध चल रहा हैसीआईए द्वारा जारी वर्ल्ड फैक्ट बुक में विहिप और बजरंग दल को ‘राजनीतिक दवाब समूह’ की श्रेणी में शामिल किया गया है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here