PTI IMAGE

BY-THE FIRE TEAM

अमृतसर में दशहरे के दिन बड़ा ट्रेन हादसा हुआ. इस दौरान रामलीला देखने आए लोगों को ट्रेन ने कुचल दिया. भीड़ होने की वजह से कुछ लोग मैदान के पास ही मौजूद पटरी पर खड़े होकर रावण वध देख रहे थे.

लेकिन इसी बीच अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास से दो ट्रेनें गुज़री और महज़ 32 सेकेंड में  61 लोगोंकी जानें चली गईं. इस हादसे के बाद भारतीय रेलवे की तरफ से डीआरएम फिरोज़पुर विवेक कुमार ने खास बयान दिया है,

जिसमें साफ कहा गया है कि इस अमृतसर ट्रेन हादसे पर रेलवे के तरफ से किसी भी प्रकार की कोई जांच नहीं की जाएगी. अपनी बात को आगे बढ़ते हुए विवेक कुमार ने आगे कहा-

1. रेलवे के तरफ से किसी भी प्रकार की कोई जांच नहीं की जाएगी.
2. भूमि रेलवे की नहीं थी न ही रेलवे से को आज्ञा ली गई थी.
3. पहले ट्रेन की रफ़्तार लगभग 91 KMPH (किलोमीटर प्रति घंटा) थी लेकिन जब ड्राइवर ने देखा तो रफ़्तार कम करने का प्रयास किया.
4. टक्कर के वक्त गति लगभग 68 KMPH (किलोमीटर प्रति घंटा थी टक्कर के बाद स्पीडोमीटर टूट गया.
5. हम अपने सिस्टम के हिसाब से ठीक हैं.
6. किसी पर कोई कार्यवाही नहीं होगी न ड्राइवर पर न गार्ड पर.
7. गार्ड अकेले कंट्रोल नहीं कर सकता था.
8. ड्राइवर से पूछताछ कर लिखित बयान लिया गया है.
9. हादसे की जगह एक कर्व है जिसके कारण ड्राइवर को दूर से नहीं दिखा.
10. रेलवे ऐसे हादसे न हों इसके लिए जागरूकता अभियान चलाएगा.

इस समय जब पुरे देश में इस रेल दुर्घटना को लेकर लोगों में शोक व्याप्त है, ऐसे में डीआरएम का यह बयान हैरान करने वाला है. वहीं खुद वहां के मुख्य मंत्री ने दुःख जताया है-

इनके अलावा एक अन्य मंत्री ने भी अपने शोक संदेश में ट्वीट किया है-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here