PTI Photo

BYTHE FIRE TEAM

उच्चतम न्यायालय ने सार्वजनिक विज्ञापनों के बारे में केंद्र के साथ-साथ भाजपा और 6 राज्यों को नोटिस थमाया है। यह नोटिस अदालत के निर्देशों के कथित उल्लंघन के मामले में दी गई है।

न्यायालय ने दिल्ली से आम आदमी पार्टी के एक विधायक की याचिका पर केंद्र के साथ ही भाजपा शासित मध्य प्रदेश,छत्तीसगढ़,उत्तर प्रदेश, राजस्थान, झारखंड और टीआरएस शासित तेलंगाना को नोटिस जारी किए हैं।

दरसल दिल्ली के बुराड़ी इलाके से विधायक संजीव झा ने उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर की थी जिसमें उन्होंने सार्वजनिक विज्ञापन के दिशा निर्देशों के उल्लंघन की बात की थी।

याचिकाकर्ता संजीव झा ने आरोप लगाया है कि केंद्र, भाजपा और इन छह राज्यों ने शीर्ष अदालत के निर्देशों का उल्लंघन करके सार्वजनिक विज्ञापन जारी किए हैं। याचिका में केंद्र सरकार द्वारा इस मुद्दे पर गठित समिति को इन कथित उल्लंघनों का संज्ञान लेने और उनके खिलाफ उचित कार्यवाही करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है।

इसी याचिका पर न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने सुनवाई करते हुए नोटिस जारी किया है। इस नोटिस में केंद्र और अन्य पक्षकारों को 4 सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा गया है।

आपको बताते चलें कि सार्वजनिक विज्ञापनों के नियमन के लिए वा सही दिशा निर्देश तय करने के लिए शीर्ष अदालत ने 13 मई 2015 को एक तीन सदस्यीय समिति गठित करने का निर्देश दिया था।

हालांकि बाद में न्यायालय ने अपने निर्देश में कुछ संशोधन भी किया था जिसके तहत 18 मार्च 2016 को न्यायालय ने सरकारी विज्ञापनों में केंद्रीय मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों, राज्यपालों और राज्य के मंत्रियों की तस्वीरों के उपयोग की अनुमति दे दी थी।

आपको बताते चलें की शीर्ष अदालत ने पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में चुनाव के मद्देनजर केंद्र और कई राज्यों की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए तस्वीर लगाने की एक सीमित मात्रा में अनुमति दी थी।

इन राज्यों ने विज्ञापनों में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और प्रधान न्यायाधीश के अलावा किसी अन्य की फोटो के प्रकाशन पर पाबंदी लगाने वाले फैसले पर पुनर्विचार का अनुरोध किया था।

अब जबकि शीर्ष अदालत ने कुछ सीमित मात्रा में फोटो लगाने की अनुमति दे दी थी तो कई राज्यों ने इसका दुरुपयोग भी करना शुरू कर दिया था। यही कारण है कि आम आदमी पार्टी के नेता ने याचिका के माध्यम से इस पर कार्यवाही करने का अनुरोध किया था।

source-PTI(BHASHA)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here