PTI/IMAGE

BY-THE FIRE TEAM

विगत कुछ वर्षों से जिस तरह की उठा पटक समाजवादी पार्टी में चल रही है उसे देखकर ऐसा लगता है कि इसमें विभाजन सुनिश्चित है. इस पार्टी के एक कद्दावर नेता शिवपाल जो की मुलायम यादव के छोटे भाई हैं, ने अब बगावत का रुख इख़्तियार कर लिया है.

उन्होंने समाजवादी पार्टी को छोड़कर खुद की पार्टी का रजिस्ट्रेशन भी करा लिया है और आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों में भी जुट गए हैं.

यूपी में आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर शिवपाल यादव की तैयारी जोर पकड़ती जा रही है. लखनऊ में गन्ना संस्थान में मंगलवार को शिवपाल के सेक्युलर मोर्चा द्वारा सदस्यता अभियान चलाया गया,

जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे शिवपाल यादव ने अपनी नई पार्टी के नाम का ऐलान किया. उन्होंने बताया कि नई पार्टी का रजिस्ट्रेशन चुनाव आयोग में हो गया है, पार्टी का नाम प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) है.

नई पार्टी को लेकर इनके समर्थकों के बीच काफी उत्साह है. अतः गन्ना संस्थान में समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का मंगलवार को बड़ा सदस्यता अभियान चलाया गया, जिसमें कई दलों के लोगों ने शिवपाल यादव के साथ मंच साझा किया.

इस दौरान सैकड़ों लोगों ने शिवपाल यादव की नई पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया की सदस्यता ली. शिवपाल यादव ने बताया कि निर्वाचन आयोग में पार्टी के रजिस्ट्रेशन के लिए दो महीने पहले ही अप्लाई किया गया था. उन्होंने आज के दिन को ऐतिहासिक बताया.

शिवपाल यादव ने गन्ना संस्थान लखनऊ में आयोजित सदस्यता अभियान में मंगलवार को केन्द्र और प्रदेश सरकार को निशाने पर रखा. शिवपाल यादव ने कहा कि सरकार अपने वादे पर खरी नहीं उतरी.

सरकार की गलत नीतियों से सभी वर्ग के लोग दुखी हैं. नोटबंदी से पूरे देश की अर्थ व्यवस्था चौपट हो गई है. गरीब, व्यापारी, छोटा आदमी सभी नोटबंदी से परेशान हुए. देश में परिवर्तन आयेगा. केन्द्र और प्रदेश में दोनों मे परिवर्तन आयेगा. मेरी सरकार में बहुत काम हुआ था.

शिवपाल सिंह यादव :

शिवपाल सिंह यादव (जन्म: 6 अप्रैल 1955, सैफई, इटावा जिला) भारत के एक राजनेता हैं. सन् 1955 को बसंत पंचमी के पावन दिन में पिता सुघर सिंह तथा माता मूर्ति देवी के कनिष्ठ पुत्र के रूप में जन्मे शिवपाल सिंह यादव को मानवता के प्रति उदात्त भाव विरासत में मिला.

उन्होंने जनसंघर्षों में भाग लेना और नेतृत्व करना अपने नेता व अग्रज मुलायम सिंह यादव जी से सीखा. इनके पिता स्वर्गीय सुधर सिंह अत्यंत सरल हृदय एवं कर्मठ किसान थे एवं माता स्वर्गीय श्रीमती मूर्ती देवी एक कुशल गृहणी थी.

वे समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई हैं. मार्च 2017 में सम्पन्न हुए उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में वे इटावा जिले के जसवन्तनगर विधान सभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के टिकट पर विधायक चुने गये. ये मायावती सरकार के कार्यकाल में 5 मार्च 2012 तक प्रतिपक्ष के नेता भी रहे.

उन्होंने जन संघर्षों व सामूहिक प्रतिकार के प्रत्येक रण में सेनानी की भूमिका निभाई. कई बार जेल गये, आन्दोलनों में चोटिल हुए पर जब भी आन्दोलन की घोषणा होती, शिवपाल सिंह यादव प्रथम पंक्ति में खड़े दिखते.

समाजवादी पार्टी की 2012 में पुनः सरकार बनने के बाद उन्हें लोक निर्माण, सिंचाई, सहकारिता मंत्री की जिम्मेदारी दी गयी, इन विभागों में व्याप्त भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए कई बड़े अधिकारियों व अभियन्ताओं के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की.

एक अखबार ने उन्हें कार्यवाही मिनिस्टर तक की संज्ञा दे दी। उनका इतिहास समाजवादी पार्टी का इतिहास है, जन-संघर्षों व सक्रिय करूणा का जीवन-दर्शन है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here